Posted by: Devi Nangrani | فيبروري 18, 2011

गोमी

गोमी रात जा 9 लगा हुआ। बाहि ते हथ सेके रहियो होसि1 अजु थधि बि पूरे परिवार सां अची डेरो जमायो हो। सजो सरीर डकी रहियो हो। भला हिकु थियुसि बुढो, बियो अकेलो, टियों वरी सीउ जंहिं मुंहिंजा हिते ढिढर ई ढरा करे छडिया। गोमी बि चवे छडि त लुडां। साईं धीउ पुट परिणाए लेखा चोखा लाहे आज़ाद थी वेई हुई। हाणे छो थी मुंहिंजी परवाह करे। हली वई पेकनि में। चालीह साल अगु इहा ई गोमी घर खां बाहिर न निकरंदी हुई। अजु उन खे बि ज़माने बदलाए छडियो1 हथ सेकींदे सेकींदे जवानीअ जा जलवा यादि अचण लगमि। माजीअ जे महिराण में टुबियूं हणण लगुसि। गोमी असांजे पाड़ेसिरी मुंशीअ जी धीअ हुई। पेसे में पूरा सारा इज़तदार माण्हू हुआ। गोमी बि सन्हिड़ी, सुहिणी, सुडोल जणु जापानी गुडी हुई। मां उन वक्ति मैट्रिक में पढ़ंदो होसि। शाम थिए त मां माड़ीअ जी दरीअ वटि पढ़ाईअ जे बहाने वञी विहंदो होसि ऐं गोमी बि पट ते आङुरि सां लीका पाए रांदि कंदी हुई। रांदि में डाढी तेज़ ऐं चालाक हूंदी हुई। साहेड़ियुन खे चवे, “डिसो मां झटि घरु ठाहे वरतो।” मथां वरी साहेड़ियूं मज़ाक में चवन्सि, “हाणे सिर्फ घोट जी जरूरत अथेई।” मां मथे बुधां त मुंहिंजे तन बदन में गरमीअ जी लहर उथे। मन में वीचारु कयुमि त बेली शादी कबी त गोमीअ सां। हाणे हालु ओरियां त कंहिंसां ओरियां। अगे त लजूं हूदयूं हुयूं। अमां बाबा खे कीअं चवां त गोमीअ खे ई पंहिंजी नूंहुं ठाहियो। आखिर इम्तहानु बि डिनुमि। वेकेशन में अमां बाबा ऐं मां कराची घुमण वयासीं। मन्होड़े ते स्ट्रीमर ते वेठासीं त बाबा अमड़ खे चयो, “परणाइ पुटु त वरी कुवांरि खे हिते वठी अचिजांइ। हिति मुंहिंजे दोस्त मोहन जी धीअ वेठी आहे, अगो पोइ मङाए था हलूंसि।” अमा बि ‘हा’ कई। मुंहिंजूं त ब बि वयूं त छह बि वयूं, मनु मुंझी वयो। बेली अमां खे बि न बुधाइंदुसि त पोइ ढोर वांगुरु बधिजी वेंदुसि। रात थी बाबो वञी सुम्हियो पर मूंखे त निंड ई न पई अचे। अमा इहो सभु ताणे वेई। रात जा बारहां लगा , अमा उथी अची भर में वेठमि। चवण लगमि, ” पुट्र! ठीकु त आहीं न, अञा ताई जागीं प्यो?” पहिरीं त गाल्हि खे लिकाइण जी कोशिश कयमि पर अमां जे जोरु भरण ते खेसि पंहिंजे दिल जो हालु कयुमि। अमा बि मूंखे आथतु डेई सुम्हण लाइ हिदायत करे हली वेई। सुबूहु थियो त अमा बाबा पाण में सुसि पुसि करण लगा ऐं मां बि चालाकीअ सां कन डींदो रहियुसि। मोटी अचण ते मुंहिंजी शादी गोमीअ सां कराई वेई। बस जुवानीअ जे जोर में छा छा इश्क कया, गोमी घोर घोरां पई वेन्दी हुई ऐं मां बि आहिस्ते आहिस्ते वञी भाकी पाईंदो होसि। बिनि सालन बैदि बबलू जाओ। इन विच में बाबे जी बदली कराचीअ थी वेई ऐं मूंखे बि नोकरी मिली वई। गोमी पेकनि में वञण लाइ बि कीबाईंदी हुई। नोकरीअ जा अठ कलाक बि खबर नाहे मूंखां सवाइ कीअं रहंदी हुई। बिन्ही जो पाण में अती मोहु ऐं प्यारु हो। वरी बिनि सालन खां पोइ बबली जाई। उन भेरे गोमी डाढी बीमार थी पई। मां त मुंझी वयुसि। किथे बि दिल न पेई लगेमि। तन में तार हुयमि सिर्फ गोमीअ जी। आखिर गोमी बि मौत जे बिस्तरे थां उथी। जणु त हूअ मौत सां जंगि जोटे मुंहिंजे लाइ ई आई हुई। उन खे सरहो डिसी मां बि गद गद थियण लगुमि। गोमी बि गले में बांहूं विझी चवण लगी, ” सचु पुछो त तव्हां लाइ मौत सां बि टकर खाधो आहे, पाण खां जुदा तव्हां खे करणु नथी चाहियां।” बई बार वडा थिया । उन्हनि जूं शादियूं कयूं। पोट्रो बि जाओ। एतिरो वक्तु घर में रोनक लगी पेई हुई। पोट्रो जडहिं ‘बाबा बाबा’ करे चुबिड़ंदो होमि त ठरी पवंदो होसि। बस पुट्र जी बदली थी ऐं हू बार वठी हली व्यो। गोमीअ खे बि अहिड़ी हवा लगी जो पंहिंजो मनु बहलाइण लाइ हली वई पेके। वाह जो ही सियारो हो जंहिं मुंहिंजे सीने मां थे सीसराट कढिया। बाहि बि उझामी ऐं मां बि वञी पलंग ते लेटियुसि। अखि खुली दरवाजे जी ठक ठक ते। अखियूं महिटे वञी दरु खोलियुमि । डिसां त साम्हूं गोमी बीठी आहे। खेसि डिसी चयुमि, ” अड़ी सचु पचु आई आहीं या सुपनो थो डिसां ?” गोमीअ बि चई डिनुमि त, ” तव्हां बिनां किथे थो चैन अचेमि।” बिन्ही खिलंदे खिलंदे चांहिं पीती।

प्रेमलता ईदनाणी (‘अदबी चमन’ तां)

Advertisements

جواب ڇڏيو

لاگ ان ٿيڻ لاءِ هيٺ پنهنجي تفصيل ڀريو يا ڪنهن آئڪان تي ڪلڪ ڪريو:

WordPress.com Logo

توهان پنهنجو WordPress.com اڪائونٽ استعمال ڪندي رايو ڏئي رهيا آهيو. لاگ آئوٽ ڪريو / تبديل ڪريو )

Twitter picture

توهان پنهنجو Twitter اڪائونٽ استعمال ڪندي رايو ڏئي رهيا آهيو. لاگ آئوٽ ڪريو / تبديل ڪريو )

Facebook photo

توهان پنهنجو Facebook اڪائونٽ استعمال ڪندي رايو ڏئي رهيا آهيو. لاگ آئوٽ ڪريو / تبديل ڪريو )

Google+ photo

توهان پنهنجو Google+ اڪائونٽ استعمال ڪندي رايو ڏئي رهيا آهيو. لاگ آئوٽ ڪريو / تبديل ڪريو )

%s سان رابطو پيو ڪري

طبقا

%d bloggers like this: